भागलपुर में टली बड़ी रेल दुर्घटना, ट्रैकमैन ने पटाखा सिग्नल से रोकी ट्रेन

सबौर व लैलख के बीच सोमवार की शाम को एक पेट्रोलिंग ट्रैकमैन की तत्परता से बड़ी दुर्घटना टल गई। शाम लगभग सवा पांच बजे जमालपुर-मालदा इंटरसिटी एक्सप्रेस वहां से गुजरने वाली थी कि ट्रैकमैन ने एक जगह पर पटरी में दरार देखी। ट्रैकमैन ने पटरी पर पटाखा सिग्नल और लाल झंडा लगाकर ट्रेन को रोक दिया। हालांकि रुकते-रुकते ट्रेन का ईंजन टूटी पटरी से आगे निकल गई पर कोई अनहोनी नहीं हुई। जमालपुर-मालदा इंटरसिटी एक्सप्रेस भागलपुर से खुली थी। ट्रेन सबौर से आगे बढ़ी ही थी कि ट्रैक पेट्रोलिंग कर रहे पेट्रोलिंग मैन मोहन मुरारी ओझा और गणेश ठाकुर की नजर पटरी में आयी दरार पर पड़ी।

सीनियर सेक्शन इंजीनियर केपी राय ने बताया कि दोनों पेट्रोलिंग मैन ने बिना समय गंवाये तुरंत ट्रेन सुरक्षा का ख्याल किया। चूंकि इस रेलखंड पर ट्रैक सिंगल लाइन है इसलिए दोनों पेट्रोलिंग मैन दो दिशा में भागे और कुछ दूरी पर जाकर पहले पटाखा सिग्नल को पटरी पर लगाया। कुछ ही देर में भागलपुर की ओर से जा रही इंटरसिटी वहां पहुंच गई। पटाखा सिग्नल की आवाज और फिर लाल झंडी देखकर ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोका। हालांकि रुकते-रुकते ट्रेन का ईंजन टूटी पटरी पर आ गई लेकिन अप्रिय घटना नहीं हुई। सूचना मिलते ही तुरंत पीडब्ल्यूआई की पूरी टीम मौके पर पहुंची और उसकी अस्थायी मरम्मत कर पहले उस ट्रेन को वहां से प्रतिबंधित रफ्तार से आगे बढ़ायी गई। इस दौरान लगभग 70 मिनट तक ट्रेनों का आवागमन बाधित रहा। देर रात तक वहां ट्रैक मरम्मत का काम चल रहा था। सीनियर सेक्शन इंजीनियर ने बताया कि काउशन पर ट्रेनों का आवागमन शुरू हो गया है। लेकिन स्थायी मरम्मत के लिए काम चल रहा है। वह स्वयं साइट पर मौजूद हैं और पूरी टीम काम कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: