भागलपुर में ठंड ने तोड़ा पांच साल का रिकॉर्ड

भागलपुर में ठंड ने बुधवार को पिछले पांच साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री की गिरावट के साथ 14.8 डिग्री दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम 6 डिग्री था। पछुआ हवा की रफ्तार 2.5 किमी प्रतिघंटे रही। मौसम विभाग के अनुसार, वर्ष 2013 में अधिकतम तापमान 14.1 डिग्री तक नीचे गया था। उसके बाद अधिकतम तापमान में इतनी अधिक गिरावट दर्ज नहीं की गई थी। मौसम विभाग के मुताबिक, सामान्य पारा 21 डिग्री होता है। अधिकतम पारे में गिरावट से ही ठंड ज्यादा बढ़ी है। हालांकि न्यूनतम पारे में दो दिनों की अपेक्षा बढ़ोतरी हुई है। दो दिनों से न्यूनतम पारा चार और साढ़े चार के बीच चल रहा था।

 

 

सुबह से छाए कोहरे और बर्फीली हवा चलने से लोग घरों में कैद रहे। ठंड को देखते हुए किसी की हिम्मत बाहर निकलने की नहीं हो रही थी। दोपहर 12 बजे हल्की धूप निकली, लेकिन उसमें गर्मी नहीं थी। ऊपर से बादलों से लुकाछिपी का खेल चल रही थी। मौसम वैज्ञानिक डॉ. वीरेंद्र कुमार ने बताया कि पछुआ हवा के कारण अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज हुई। अभी 15 जनवरी तक ठंड इसी तरह रहेगी।

 

ठंड से ठिठुरता रहा शहर, अलाव से कटी रात

 

ठंड के कारण शहर सुबह से शाम तक ठिठुरता रहा। ठंडी हवाओं के कारण लोगों की कंपकंपी छूटी। ठंड के कारण कई घरों की खिड़कियां नहीं खुलीं। घरों में भी अलाव जलाकर बैठे रहे। बच्चों और बुजुर्गों को घरों से बाहर जाने पर रोक थी। बाहर से आ रही ठंडी हवाएं को रोकने के लिए घरों में हरसंभव प्रयास किए गए थे। कोतवाली से लेकर बरारी चौक तक लोग अलाव जलाकर बैठ गए। चौक-चौराहों पर रात गुजारने वाले लोग अलाव के सहारे ही रात काट रहे थे।

 

रात गहराते ही पसरा सन्नाटार

 

ठंड में रात जैसे-जैसे गहरा रही थी, वैसे-वैसे शहर सन्नाटे में बदल रहा था। शहर के प्रमुख चौराहे स्टेशन चौक, कोतवाली चौक, खलीफाबाग चौक, घंटाघर चौक पर गाड़ियों की आवाजाही काफी कम हो गई थी। दुकानें आठ बजते बजते ही बंद हो गई। ठंड के कारण लोग घरों में ही दुबके थे। दस बजे तक सड़कें पूरी तरह खाली हो गई थीं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: